Prime Time With Ravish Kumar, May 20, 2020 | मज़दूर चल रहे हैं...

2 Просмотры
Издатель
जब हम पत्रकारिता में आए तो बताने वाले बड़ों ने यही कहा की साहित्यिक शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना है, भारी-भरकम शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना है. उन शब्दों का इस्तेमाल करना है जिसे आम आदमी बोलता है ,आम पाठक समझता है. तब हम ना आम पाठक को जानते थे, ना आम आदमी को, न खुद को. उनके बताए रास्ते पर चलने लगे और इतने सालों के बाद आज यह महसूस हो रहा है कि मेरे ही वाक्य शब्दविहीन होते चले गए हैं. मेरे शब्दों की विविधता खत्म होती चली जा रही है. मीडिया में भी आप यही देखेंगे. इसका असर यह हुआ है कि समाज और संचार से शब्द गायब होते चले गए.संवेदना ,सांत्वना और श्रद्धांजलि की बारीकियां मिटती चली गईं. जब करोड़ों मजदूर अपनी-अपनी दास्तानों को लेकर चलने लगे तो उनकी विविधता, मार्मिकता उनके किरदार चंद शब्दों में लपेटे जाने लगे. इससे अधिक किसी त्रासदी के प्रति क्रूरता नहीं हो सकती कि आपके वाक्य पीपीई किट की तरह सबको पहना दिए गए हैं.

NDTV India is a 24-hour Hindi news channel. NDTV India established its image as one of India's leading credible news channels, and is a preferred channel by an audience which favours high quality programming and news, rather than sensational infotainment.

NDTV India's popular shows revolve around: news, politics, economy, sports, panel discussions with eminent personalities and noteworthy commentaries.

NDTV इंडिया भारत का सबसे निष्पक्ष और विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ चैनल है. NDTV इंडिया पर आप पॉलिटिक्स, बिजनेस, स्पोर्ट्स और बॉलीवुड से जुड़ी ताज़ा ख़बरें देख सकते हैं. सबसे निष्पक्ष और विश्वसनीय लाइव ख़बरों के लिए हमारे साथ बने रहें.

देखें NDTV इंडिया लाइव, फ़्री डिश पर चैनल नं 49

चैनल सब्सक्राइब करें :
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :
हमें ट्विटर पर फॉलो करें :
NDTV Apps डाउनलोड करें :
अन्य वीडियो देखें :
Категория
Детективы онлайн
Комментариев нет.
Яндекс.Метрика